What Is SMPS In Hindi?

What Is SMPS In Hindi? – क्या आप भी जानना चाहते है की SMPS Kya Hai? ( क्या है ?) तो आज इस आर्टिकल मे हम इसी के बारे मे बात करने वाले है और How SMPS Works In Hindi  के बारे मे भी बआयात करेंगे ताकी आपको पता चल सके की SMPS Kaise Kaam Karta Hai?

What Is SMPS In Hindi?
           Got this image on: Wikimedia Commons

ऐसा बहुत बार होता है की SMPS के वजह से हमारा कंप्युटर काम नहीं करता है और हम सोचते है की कुछ और गड़बड़ है इसलिए आप इस आर्टिकल को पूरा पढे और आज हम इसमे आपको ढेर सारी जानकारी देने वाले है जो की आपको बहुत ज्यादा काम आने वाला है । तो चलिए जानते है की What Is SMPS In Hindi?

What Is SMPS In Hindi?

सबसे पहले तो ये जान लेते है की SMPS Ka Full form Kya Hai? तो इसका जवाब है – Switched Mode Power Supply. ये एक Electrical Device है जो Motherboard, और Device को Required Power Provide करता है । SMPS, High Voltage AC को Required Low Voltage DC मे Convert करता है ।  

जैसे की जब हम अपने कंप्युटर को ऑन करते है तो उसमे आप नोटिस करते होंगे की पंखा का आवाज आता है जिसका मतलब होता है की हमारा कंप्युटर ऑन हो रहा है लेकिन आपने सोचा है की वो पंखा कहाँ चलता है?, तो जान लीजिए की वो पंखा smps मे चलता है ।

जब भी आप नया कुछ Hardware को कंप्युटर मे कनेक्ट करते है तो उसको SMPS से ही Attach करना पड़ता है क्योंकि उस Hardware को Power की जरूरत होगी तो SMPS ही पावर Provide करता है ।

SMPS कंप्युटर मे Connect सभी Components को Power Provide करता है जैसे की आपका कंप्युटर का Hard Drive, Motherboard, Optical Disk Drive ( जिसमे आप सीडी लगाकर चलाते है ) इत्यादि । और जैसा की हम सभी जानते है की कंप्युटर डीसी मे काम करता है इसलिए उसको डीसी पावर की जरूरत होती है जो की यही Convert करके देता है ।

 

What Is SMPS In Hindi?
     Get this image on: Wikimedia Commons

Specifications Of SMPS In Hindi

अगर आपका कंप्युटर का SMPS कभी खराब होता है और आप इसे लेना चाहेंगे तो उसके लिए आपको नीचे बताए गए सभी बातों को ध्यान मे रख कर ही SMPS को खरीदें । इसलिए आपको इसका Knowledge होना बहुत जरूरी है ।

Size – जैसा की हम सभी जानते है की आजकल हरेक साइज़ के CPU Case ( Cabinet ) आ रहे है और हरेक के अलग अलग साइज़ के कम्पोनन्ट आते है इसलिए आपको इस बात का ध्यान जरूर रखे की आप जो SMPS ले रहे है वो आपके कैबिनेट मे बढ़िया से बैठ जाए जिसके कारण और Component को लगाने मे दिक्कत न हो ।

Connectors – इसका मतलब ये है की अपना कंप्युटर मे लगे हुय हार्डवेयर के अनुसार देख ले की कौन सा SMPS आपके लिए बेस्ट है और कौन सा SMPS आपके कंप्युटर मे लगे हुए सभी हार्डवेयर को पावर सप्लाइ कर सकता है ।

Wattage – दुनिया के हरेक चीज जो पावर से चलता है उसका कुछ न कुछ watt को सपोर्ट करके चलने का आदत रहता है या फिर आप कह सकते है कि उसी के आधार पर उसमे Voltage को Provide किया जाता है । लेकिन SMPS का Power Rating हमेशा 250W से 600W के बीच मे Vary करते रहता है ।

इसलिए आप SMPS लेने से पहले इसको जांच ले की कितना Wattage का SMPS आपका कंप्युटर Support करता है। अगर आपको अपने कंप्युटर के कितना wattage का smps लगा हुआ है उसको जांच करने के लिए आप नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करे ।

Click Here To Calculate 

 

Output Voltages Of SMPS In Hindi

बताए गए सभी कलर को उसके Voltage के अनुसार दर्शाया गया है जिसका अलग अलग काम होता है और जो की नीचे आपको बताया गया है । –

1. -12V ( Blue ) – इसका उपयोग Serial Port मे किया जाता है जिसका उपयोग बहुत कम Ports मे किया जाता है ।

2. -5V ( White ) – इसका उपयोग पुराने Floppy Controllers के द्वारा किया जाता था जो की पहले का Hardware मे support करता था ।

3.  0V ( Black ) – ये Ground Voltage है जिसको की Earth के नाम से जाना जाता है ।

4. +3.3V ( Orange ) – इसका उपयोग Processor, DIMM, PCI/AGP Cards मे किया जाता है ।

5. +5V ( Red ) – इसका उपयोग Disk Drive Logic, Voltage Regulators, ISA Cards, SIMMs इत्यादि मे किया जाता है ।

6. +12V ( Yellow ) – इयक उपयोग कम्प्यूटर मे Available Motors के लिए किया जाता है ।

 

Power Supply Control Signals In Hindi

Power Ground ( PG ) Signal ( Gray ) – ये Motherboard को Indicate करता है की सभी Connectors ( +12V, +5V, -12V, -5V और 3.3V ) काम कर रहे है, और कंप्युटर को भी बताता है की SMPS बढ़िया से काम कर रहा है मतलब की इसमे कोई खराबी नहीं है ।

Power Signal ( PS ) ON ( Green ) – ये Power Supply को Control करता है और ये एक ATX Standard का पार्ट है । ये Motherboard से Low -Voltage Logic-Level Signal को Power Supply तक Carry करता है जो Indicate करता है की कब Turn Off और ऑन होना है ।

+5VSB ( Violet ) – ये हमेशा ऑन रहता है जब AC Power Input, Active रहता है और ये तब भी ऑन रहता है जब सिस्टम ऑफ रहता है । ये Line को Supply करता है जो की Power Standby Circuit मे Use होता है । और इसका नाम इसका लाइन सप्लाइ के आधार पर ही रखा गया है की +5V मतलब की +5V ये supply करता है ।

 

Different Connectors Of SMPS

जैसा की हमने अभी पढ़ लिया की SMPS कैसे कैसे कौन कौन Hardware को Power Supply करता है तो वैसे ही अब जानेंगे की उसमे कौन कौन से Connectors लगे रहते है और कितना पिन के हुआ करते है जिससे आपको जानने मे आसानी होगा की कौन कौन से Connectors SMPS मे रहते है ।

ATX Power Connector

ये 20 पिन का कनेक्टर है जिसमे 6 तरह का Voltage Out होता है जिसका उपयोग ATX/NLX Power Supply के लिए किया जाता है । जिसमे पिन का कलर, वायर का कलर को denote करता है और जो की Respective Voltage को Denote करता है ।

 

24 Pins SMPS Connector

इसमे 24 Pins होता है जो की Motherboard को पावर सप्लाइ करता है इसलिए इसको PC Main Power Connector कहा जाता है। इसमे 4 अलग Pins होते है जो की अलग Voltage Level Carry करते है 20 Pins के Compare मे । Pin Number – 11, 12 और 23 Voltage – +12V, +3.3V और +5V Carry करते है । जबकि 24 नंबर पिन Ground का काम करता है ।

Standard Peripheral Power Connectors ( Molex)

इसमे Disk Drive Power Connectors का उपयोग किया जाता है जिसमे की 4 पिन होता है जिसको Molex कहा जाता है। Hard Drive और सीडी/डीवीडी Drives Molex को ही Use करते है ।

SATA Power Connector

इसमे 15 पिन कनेक्टर होता है जिसमे Large Number का पिन का उपयोग तीन अलग तरह के Voltage Supply करने के लिए किया जाता है – 3.3V, 5V और 12V..

PCI-E 6 Pin Connector

इसका उपयोग अलग Extra 12 वॉल्ट पावर PCI Express Expansion Card को Provide करने के लिए किया जाता है।

Read Also-

Computer Me Hindi Me Kaise Likhe? – 2020 हिन्दीमेमास्टर

Computer Se Virus Kaise Hataye -2020 – HindiMeMaster

What Is IP Address In Hindi – HindiMeMaster

Conclusions

आशा करता हूँ की आपको आज पता चल गया होगा की What Is SMPS In Hindi? और उसमे सभी तरह के जवाब को कवर किया है और आपको पूरा डीटेल मे बताया है SMPS के बारे मे जिसको आपको जानना जरूरी है ।

 

About hindimemaster

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »